मंगलवार, 30 जनवरी 2018

समय से संवाद करता ‘लुक लुक की बीमारी’ व्यंग्य संग्रह--डाॅ कामिनी



viyang
पुस्तक समीक्षा-

                                  ‘लुक लुक की बीमारी’
(बुंदेली गद्य व्यंग्य संग्रह) 
व्यंग्यकार-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
समीक्षक- डाॅ.कामिनी (सेवढ़ा)
पृष्ठ-130, सहयोग राशि सजिल्द-450रु.

                                   समय से संवाद करता ‘लुक लुक की बीमारी’ व्यंग्य संग्रह--डाॅ कामिनी

संत प्रवर रविशंकर महाराज की जन्मभूमि बुंदेलखण्ड की पावन धरा पर एक गाँव लिधौरा जिला टीकमगढ़ (म.प्र.) में एक ऐसी प्रतिभा का उदय हुआ जिसने साहित्य एवं पत्रकारिता में अपनी पहचान बनाई है। वह नाम है-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’। अपने गाँव की अस्मिता को अपने नाम के साथ जोड़कर अपनी जन्मभूमि के प्रति अनुराग प्रकट किया है। बुंदेली माटी की खुश्बू उनके साहित्य में समावेशित है। 
राजीव जी का ताजा-तरीन बुंदेली गद्य व्यंग्य संग्रह ‘लुक लुक की बीमारी’ 29 रंग-बिरंगे गुलदस्ते के रूप में पाठकों के सम्मुख आया है। गद्य-पद्य की विद्याओं में बुंदेली हाइकू संग्रह, संस्मरण, क्षणिकायें, ग़ज़ल़ दोहे आदि पर लेखक का समान अधिकारी है। व्यंग्य हिन्दी गद्य की एक रोचक विद्या है। व्यंग्य लिखना आसान काम नहीं है। जैसे किसी चट्टान को काटकर रास्ता बनाया जाय। परिस्थिति और घटना को समझकर ही व्यंग्य लिखा जाता है। व्यंग्य हँसाता है, रुलाता भी है। भीतर के दर्द को उद्घाटित करता है। वह फूल की तरह कोमल है और काँटे की तरह चुभ्ंान पैदा करने वाली भी। व्यंग्य-लेखक अपने आप में एक क्रियाशक्ति है जो लेखक के द्वन्द को उजागर करती है। 
व्यंग्य का मतलब है, खुल जायें झपकियाँ। व्यंग्कार के समक्ष यह चुनौती होती है कि वह अपने शब्दों और विचारों के माध्यम से समाज की जीती जागती तस्वीर पेश करे। इस दृष्टि से राजीव जी का व्यंग्य संग्रह समय से संवाद करता हुआ दिखाई देता है। जो यथार्थ से परिचित कराता हैं और सामाजिक बदलाव के प्रति सचेत करता है। व्यंग्यों में खुरदरी धरती की सौंधी सुगंध है। जहाँ कसक भरी ज़िन्दगी भी ठसक भरी लती है। व्यंग्य आंदोलित करते हैं। स्वस्थ मनोरंजन करते हुए है। इन व्यंग्यों में मूल्यों के प्रति आस्था हैं सन्नाटे में अलाव जलाने की कोशिश। असंतोष को प्रतिफलन का फलन प्रदान करते हुए संवाद आहत और हतप्रभ करने की ताकत रखते हैं। व्यंग्य की धार तिलमिलाहट पैदा करने में समर्थ है। भाषा में प्रवाह है, अतंतः अपनी बात कह देने की छटपटाहट है। गुदगुदाते भी है व्ंयग्य। समाज की विद्रुपताओं और विसंगतियों पर चोट करते हैं। चिंटी सी काटने लगती है पढ़कर। नैतिकता का इतना हृास। अनेक विरोधाभास खवाल-जबाब करते हुए।
‘लुक लुक करना’ बुंदेली शब्द है। एक मुहावरा बन गया है। लुक-लुक से ‘लुक्का’ बन गया और यह हीनताबोधक ‘गाली’ जैसे रुप में भी प्रयुक्त होने लगा। ‘लुक-लुक’ करना याने अपने आप को प्रदर्शित करना। हल्कापन। कुठा का सूचक। कुंठित व्यक्ति इस मानसिक बीमारी से ग्रस्त हो जाता है। आत्म मुग्धता, आत्म प्रशंसा व्यक्ति के चरित्र को कमजोर बनाते हैं। यही बातें व्यंग्यकार को आँसती हैं, वह बेचैंन हो उठता है, कुछ कहने के लिए और बन जाती है व्यंग्य-निबंधों की यह पोथी। लेखक इस बीमारी का इलाज शब्दों के हथौड़े से करता है। कवि मुकुट बिहारी सरोज के शब्दों में-‘यह फोड़ा नासूरी है, इसकी चीरफाड़ करना अब तो मजबूरी है। ‘मवाद’ बाहर निकालकर स्वस्थ करने की चिंता लेखक को है।
मुहावरों और कहावतों का सुंदर संयोजन है। जैसे-‘‘दार नईं गलने हती’’, ‘‘कीरा कुलबुलान लगौ’’, ‘‘हींग कौ हंगा’’, ‘‘मुसीबत में गधा खों बाप बना लऔ जात’’, ‘‘दूद के धुबे’’, ‘‘साँपन खों कितेकऊ दूद पिबाओ बे उगले बिषई’’, ‘‘बाप-बेटा बराती सास-बहू गौरैयाँ’’, ‘‘खटिया खड़ी हो गई’’, ‘‘फूल के कुप्पा हो गये’’, ‘‘गुरु के गुरु निकरे’’ ,‘‘बुकरा की की मताई कबलौ खैर मनाहे’’, ‘‘लबरा बडा़ै कै दोंदा’’, आदि सुंदरता बढ़ाते हैं और अर्थद्योतक क्षमता को सशक्त बनाते हैं। साथ ही अंग्रेजी शब्दों के प्रयोग बात को वज़नदार बनाने में सहायक हैं। साहित्यकार और नेताओं के चरित्र को उजागर किया गया है व्यंग्यों में। ‘साहित्य के वटवृक्षों’ को ‘लुक लुक की बीमारी’ है। देखा भाला यथार्थ ‘साहित्य के अजगरों’’ का जो कुंडली मार कर बैठे हुए है। वटवृक्ष छोटे पौधों को पनपने नहीं देता। उन्हें ‘छपास का भयंकर रोग’ है। ‘एक नये मंचीय कवि’ की गाथा है। ‘आंदरे कवि के हात में अध्यक्षता की बटेर’’ लग गई है। ‘मास्साब बेचारौ काम कौ मारौ’ की व्यथा-कथा है। ‘हम हैं जे.एच.डी.’ याने झोलाछाप डाॅक्टर की पोल खोली गई। ‘नोटबंदी बनाम कारे धन वालों की नसबंदी’ की वेदना है- ‘‘जमाखोरन की हवा बंदी भी हो गई उर उनके जेलबंदी की तैयारी सोउ चल रई। कछू जने पकरे सोउ गये और मुलकन की हवाबंद हैं।’’ 
लेखक हर ख़बर से बाख़बर है। ‘सेल्फी सनकी जी’ नई पीढ़ी के लिए चेतावनी है। ‘कलयुगी नेताओं के प्रति आक्रोश है। ‘भूत को मोबाइल नम्बर’ भी कमतर नहीं है। ‘कवि कौ पत्नी खों प्रेम पत्र’ गुदगुदाता है। ‘लक्ष्मी जू कौ इन्टव्यू’-भ्रष्टाचार का पर्दाफाश करता है। ‘पंिड़त जू कौ कुम्भ स्नान’,हमऔ चार इंच कौ नौ’, ‘नोट पे चोट’ ,‘इंतजार कौ मजा’’, ‘आधुनिक शब्दकोश’, ‘आदमी में आदमी पैदा करो’ व्यंग्य सोचने के लिए विवश करते हैं। ‘हिन्दी के नाँव अंग्रेजी में’ तथा ‘हमाओ पैलो प्यार अद्भुत है। ‘खाट की बाट’ में मुहावरों का चमत्कार है। कुल मिलाकर ऐसा लगता है कि बुदेली पातर में समूदी रोटी परोसी गई है। जिसका स्वाद ही अलग है।
‘अनपढ़ कों समझाओ जा सकत लेकिन पढ़े लिखे मूरख को नईं’, ‘न हैलो न हाय सीधे धाँय-धाँय’ और सीधे वाकयुद्ध शुरू, ‘अरे भाई साहित्यकार की फोटो है। कोउ मामूली आदमी की नइयाँ, बा भी ऊकी जौ अपने-आप खों अन्तर राष्ट्रीय कवि मानबे की भौत बड़ी गलतफहमी में जी रऔ।’ ऐसे अनेक उद्धरण व्यंग्यों को धारदार बनाने में सहायक है। ‘लुक लुक की बीमारी’ शीर्षक आकर्षित करता है। और इस संग्रह का प्रतिनिधि व्ंयग्य है- ‘‘ तनक देर में इनै फिरकै लुक लुकी उठी। सो पछांई बैठे श्रोताओं में से कोनउ ने जोर से कई- जो बब्बा को आय? दूसरे ने कई इतइ कौ नओ-नओ कवि बनो है सो आज ईखों पढ़बे नईं मिल रआ, सो फरफरात फिर रऔ और गजरा डार-डार कें अपनों मन भर रऔ। एई बहानें मंच पै जाबे की लुक लुकी शांत कर रऔ।’’
ऐसी स्थितियाँ हास्य के साथ लेखक के भीतर की पीड़ा को अभिव्यक्त करती हैं। भविष्य में सुधार का संदेश देती हैं। लेखक का प्रयास प्रशंसनीय है। आवरण पृष्ठ आकर्षक है। मुझे विश्वास है, पाठकों द्वारा पुस्तक का स्वागत किया जायेगा। मंगल कामनाएँं और बधाई।
---
-डाॅ. कामिनी
 पूर्व प्राचार्य
शासकीय गोविंद महाविद्यालय सेंवढ़ा
जिला-दतिया (म.प्र.) 475682
मोबाइल-09893878713

सोमवार, 8 जनवरी 2018

हाजी जफर से फार्महाउस पर म.प्र.लेखक संघ की 231 वीं गोष्ठी एवं पिकनिक Date7-1-2018

            ‘वीर रस एवं देश भक्ति पर हुई कवि गोष्ठी   
        हाजी जफर से फार्महाउस पर म.प्र.लेखक संघ की 231 वीं गोष्ठी एवं पिकनिक  Date7-1-2018
         (जतारा, बल्देवगढ़, नदनवारा, लखौरा,पठा,सिमरा,तखामजरा से आये कवि)   

    टीकमगढ़// वरिष्ठ शायर हाजी जफरउल्ला खां ‘जफर’ बडागाँव खुर्द के पास स्थित के फार्म हाउस पर में पिकनिक एवं साहित्यिक संस्था म.प्र. लेखक संघ जिला इकाई टीकमगढ़ की 231 वीं कविगोष्ठी वीर रस एवं देश भक्ति पर केन्द्रित आयोजित की गयी। जिसकी अध्यक्षता बल्देवगढ़ से पधारे वरिष्ठ साहित्यकार यदुकुल नंदन खरे ने की जबकि मुख्य अतिथि के रूप में नंदनवारा से पधारे गीतकार शोभाराम दांगी ‘इन्दु’ रहे एवं विशिष्ट अथिति के रूप में व्यंग्यकार रामगोपाल रैकवार कँवल’ एवं युवा शायर अनवर खान ‘साहिल’ रहे।
वीरेन्द्र चंसौरिया ने सरस्वती वंदना कर रचना पढ़़ी- देश ही मंदिर,देश ही मस्जिद देश ही अपना घर।
जतारा से पधारे युवाकवि महेन्द्र चैधरी ने वीर रस में सुनाया-
                शेर के मुख में हाथ डालके गिन लेते हम दांतों को।
                दिल्ली ने गर बांधा न होता सेना के हाथों को।।
बल्देवगढ़ से पधारे कवि कोमल चन्द्र बजाज ने सुनाया-ओ पाक,चीन के गद्दरों तुम भारत क सोचो मत।
म.प्र.लेखक संघ के जिलाध्यक्ष राजीव नामदेव ‘‘राना लिधौरी’ ने ग़ज़ल सुनायी-
    देश रक्षा के लिए खून बहाने की जगह,हम लहू दंगे फसादों में बहा देते है।
    हम तो सहते है जमाने के सितम हँस हँसके, हम नहीं वो जिन्हें हालात रूला देते है।।
            परमेश्वरीदास तिवारी ने कविता पढ़ी- जिन्दगी का सबसे बड़ा साथी गुलाब हैं।
ज़फ़र उल्ला खां ‘ज़फ़र’ ने ग़ज़ल पढ़ी-    तुम्हें जिंदगी भर न भूलेगे हम,मगर राजे दिल भी न खोलेगें हम।।
ग्राम नदनवारा से पधारे कवि शोभाराम दांगी ने पढ़ा-झंडा तिरंगा देश की शक्ति का निशान है।
                                जिसने गवां दी जान वो महान की तू महान है।
ग्राम लखौरा से पधारे बुंदेली कवि गुलाब सिंह भाऊ ने पढ़ा-लहर लहर लहराये तिंरगा जा भारत की शान है।
                                तन मन करो निछावर अपने जिब तक भीतर प्रान है।।
ग्राम पठा के पधारे सीताराम राय ‘सरल’ ने रचना पढ़ी-
                वीर सपूतो की टोली हरसाय के चली,देश माटी सिर लगाये के चली। सिमरा से ग्राम सिमरा से आये रविन्द्र यादव ने पढ़ा-भारत के भाग्य विधाता थे श्री स्वामी जी का क्या कहना।
बल्देवगढ़ से पधारे कवि यदुकुलनंदन खरे ने सुनाया-
                कहीं बातों मे बात न बिगड जाये,धरती पर कहीं विश्वयुद्ध न हो जाये।
उमाशंकर मिश्र ने पढ़ा-दौड़कर आ गये सबं तिरंग तले,उसने जब भी पुकारा वतन के लिए।
अनवर खान साहिल ने पढ़ा-बंटवारे के होते ही पडौसी चले गये,हम हिन्द की जमीन छोड़कर नहीं गये।
रामगोपाल रैकवार ने गीत पढ़ा- आओ गुनगुनी धूप में बैठे,
पूरनचन्द्र गुप्ता ने सुनाया-धन्य-धन्य है धरा हमारी धन्य यहाँ की आन है,
               धन्य तिरंगा झण्डा अपना जिसमें अपनी शान है।
आर.एस.शर्मा ने सुनाया- पेनकार्ड को आधार से जोडो के बजाय,हिंदू को मुसलमान से जोड़ो।
                दलित को दलित से जोड़ो,भारत को भारत से जोड़ो।।
            इस मौके पर बी.एल जैन,परमेश्वरी दास तिवारी, भारत विजय बगेरिया, रामेश्वर राय ‘परदेशी’, अशरफ खान, योगेन्द्र तिवारी, डी.पी.यादव आदि सहित अनेक कवियों ने भी रचना पढ़ी।
                    कार्यक्रम का संचालन उमाशंकर मिश्र ने किया तथा सभी का आभार हाजी जफरउल्ला खां ‘जफर’ ने किया गोष्ठी के अंत में सभी ने पिकनिक मनाते हुए भोजन का आनंद लिया।
                                    रपट-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी‘‘
                                        अध्यक्ष-म.प्र.लेखक संघ टीकमगढ़
                                        मोबाइल-9893520965
                                        E-Mail- ranalidhori@gmail.com













rajeev namdeo rana lidhori

शनिवार, 6 जनवरी 2018

साहित्यिक पत्रिकाओं के संपादकों का दो दिवसीय विमर्श

Date-2-3 Jan 2018 Bhopal    








sahitya acadmiसाहित्यिक पत्रिकाओं के संपादकों का दो दिवसीय विमर्श
         म.प्र.साहित्य अकादमी भोपाल का आयोजन
    देशभर के 74 पत्रिकाओं के संपादकों ने किया विमर्श


टीकमगढ़// म.प्र.साहित्य अकादमी भोपाल द्वारा साहित्यिक पत्रिकाओं के संपादको का दो दिवसीय विमर्श राजकीय संग्रहालय भोपाल में आयोजित किया गया जिसमें देशभर से 74 साहित्यिक पत्रिकाओं के सपंादक शामिल हुए और विभिन्न विषयों पर विमर्श किया गया। टीकमगढ़ जिले से विगत 12 वर्षो से प्रकाशित होने वाली एकमात्र साहित्यिक पत्रिका ‘आकांक्षा’ से संपादक के रूप में राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने टीकमगढ़ जिले का प्रतिनिधित्व किया।
        कार्यक्रम के प्रथम सत्र की अध्यक्षता प्रमुख सचिव म.प्र.संस्कृति विभाग श्री मनोज श्रीवास्तव ने की एवं विशिष्टि अतिथि के रूप में ‘गंगनांचल’ पत्रिका के संपादक श्री हरीश नवल दिल्ली, अश्वनी कुमार शुक्ला बांदा, डाॅ. अनीता शुक्ला लखनऊ, राजुरकर राज भोपाल, श्रीराम परिहार खंडवा, श्रीधर पराडकर ग्वालियर, गोरखनाथ हैदराबाद, डाॅ जवाहर कार्नावत मुंबई, गिरीश पंकज रायपुर, डाॅ.सुधीर शर्मा, सत्यनारायण व्यास भीलवाड़ा, पद्कांत शर्मा लखनऊ,राकेश शर्मा इंदौर, राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ टीकमगढ़, अनिल अयान सतना, महेश सक्सेना भोपाल, डाॅ. कैलाश पंत भोपाल,अनिरूद्ध सिंह सेंगर गुना,महेश सक्सेना भोपाल, जगदीश किज्ल्क ,डाॅ सुनीता खत्री, नुश्रत मेहदी, अश्विन खरे, अरूण तिवारी, भोपाल आदि सहित 74 संपादक शामिल हुए।
        अंत में कार्यक्रम के संयोजक साहित्य अकादमी के निदेशक डाॅ. उमेश कुमार सिंह ने सभी का आभार माना।

                            रपट-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
                                संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
                                अध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ
                            टीकमगढ़ (म.प्र.)मोबाइल-9893520965
                           

गुरुवार, 28 दिसंबर 2017

साहित्य अकादमी का दो दिवसीय ‘भूषण स्मृति समारोह’ सम्पन्न हुआ







sahitaya acemdmi bhopal
    बच्चों को अधिक से अधिक साहित्य पढ़ना चाहिए-डाॅ. उमेश कुमार सिंह
    साहित्य अकादमी का दो दिवसीय ‘भूषण स्मृति समारोह’ सम्पन्न हुआ
     अकादमी के निदेशक डाॅ. उमेश कुमार सिंह का हुआ सम्मान
        टीकमगढ़// साहित्य अकादमी भोपाल द्वारा टीकमगढ़ में दिनांक 26 एवं 27 दिसम्वर 2017 को अपूर्व हाॅटल के सभागार में दो दिवसीय भूषण स्मृति समारोह आयोजित किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में प्रो.राधावल्लभ शर्मा भोपाल एवं विशिष्ट अथिति के रूप में डाॅ. बी.एल. वर्मा बिन्दू’ उपस्थित रहे अध्यक्षता प.हरिविष्णु अवस्थी ने की एवं संचालन डाॅ. आर.पी तिवारी ने किया। इस अवसर पर अकादमी के निदेशक डाॅ. उमेश सिंह जी को ‘पाठक मंच’ टीकमगढ़ द्वारा सम्मान-पत्र, शाल श्रीफल से सम्मानित किया।
         प्रथम दिवस छात्र-छात्राओं द्वारा कवि ‘भूषण’ पर केन्द्रित निबंध लिखवाये गये । जिसका स्थानीय संयोजन साहित्यकार राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने किया। निबंध प्रतियोगिता में प्रथम स्थान कृष्णकांत अहिरवार शा.उत्कृष्ट विद्यालय क्र-1 ने प्राप्त किया तथा द्वितीय स्थान रूचि वर्मा सरोज कान्वेन्ट स्क्ूल ने एवं तृतीय स्थान रोशनी कुशवाहा डाइट कुण्डेश्वर ने प्राप्त किया है।
        दूसरे दिवस ‘राष्ट्रीय चेतना के कवि भूषण’ पर प्रमुख वक्ता प्रो.राधावल्लभ शार्म भोपाल,डाॅ.वी.एल.वमा बिन्दू’ एवं प.हरिविष्णु अवस्थी ने द्वारा अपने वकतव्य दिये गये। तृतीय चरण के कवि सम्मेलन हुआ जिसमें प्रमुख रूप से डाॅ. दुर्गेश दीक्षित,मनमोहन पाण्डे,एन.डी.सोनी,शिवचरण उटमालिया,सियाराम अहिरवार एवं सुधा खरे द्वारा काव्य पाठ किया गया संचालन हरेन्द्र पाल सिंह ने किया तथा संयोजन विजय कुमार मेहरा ने किया।
        अंत में सभी प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र एवं पुरस्कार दिये गये। अपने आभार प्रदर्शन के दौरान अकादमी के निदेशक डाॅ. उमेश कुमार सिंह ने बच्चों को अधिक से अधिक साहित्य पढ़ने लिए उन्होंने जोर दिया। अकादमी के उद्देश्यांे के बारे में बताया एवं  अकादमी द्वारा क्षेत्रीय बोलियो पर छः नये पुरस्कार शुरू करने की जानकारी दी।
        अकादमी द्वारा निःशुल्क पुस्तकें उपहार स्वरूप दी गयी। इस अवसर पर अकादमी से राकेश कुमार ंिसह,गुणसागर सत्यार्थी, गुणसागर सत्यार्थी, डाॅ.कैलाश बिहारी द्विवेदी,राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’,कौशल किशोर भट्ट,उमा शंकर मिश्रा, सहित भारी संख्या में साहित्यकार एवं श्रोता उपस्थित रहे।
                             रपट-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
                                संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
                                अध्यक्ष म.प्र. लेखक संघ
                            टीकमगढ़ (म.प्र.)मोबाइल-9893520965

रविवार, 24 दिसंबर 2017

राना लिधौरी की ‘लुक लुक की बिमारी’ को मिला 5000रू.का पुरस्कार

 राना लिधौरी की ‘लुक लुक की बिमारी’ को मिला 5000रू.का पुरस्कार
‘राना लिधौरी’ के व्यंग्य संग्रह ‘लुक लुक की बीमारी’ का हुआ ओरछा में विमोचन
बुन्देली भाषा का ‘राष्ट्रीय सम्मेलन’ ओरछा जिला टीकमगढ़ म.प्र. (भारत)
टीकमगढ़// अ.भा. बुन्देलखण्ड साहित्य वं संस्कृति परिषद् जिला शाखा टीकमगढ़ के महामंत्री राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ के गद्य व्यंग्य संग्रह ‘लुक लुक की बीमारी’ का विमोचन ओरछा में बुन्देली भाषा का ‘राष्ट्रीय सम्मेलन’ में Date 21-12-2017 किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में
ब्ुंदेलखंड यूनिवर्सिटी झाँसी के कुलपति डॉ. सुरेन्द्र दुबे मौजूद रहे एवं अध्यक्षता नातीराजा मधुकर शाह जू देव ने की विशिष्ट अतिथि के रूप में जर्मनी से आयी प्रो. तत्याना ओरास्कया एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री कैलाश मडबैया भोपाल रहे। संचालन डॉ. कामिनी दतिया ने किया।

राना लिधौरी ने बताया कि दो दिवसीय बुन्देली का राष्ट्रीय सम्मेलन ओरछा के होटल बुन्देखण्ड रिवर साइड में आयोजित किया जायेगा। जिसमें बुन्देलखण्ड क्षेत्र लगभग 40 जिलां से बुन्देली के साहित्यकार शामिल हुये। परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष कैलाश मडबैया ने राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी के बुन्देली व्यंग्य संग्रह ‘‘लुक लुक की बिमारी’  को 5000रूपए का पुरस्कार देने की घोषणा की।
गौरतलब हो कि राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ की ‘‘लुक लुक की बीमारी’’ व्यंग्य संग्रह पाँचवीं पुस्तक है। जिसमें 130 पेजों में बुन्देली में लिखे 29 गद्य व्यंग्य छपे है। इसके पूर्व उनकी द्दसी‘अर्चना’,(कविता संग्रह), ‘रजनीगंधा’(हिन्दी हायकू संग्रह), ‘नौनी लगे बुंदेली’ (बुन्देली हायकू संग्रह) एवं ‘राना का नजराना’(ग़ज़ल संग्रह) प्रकाशित हो चुकी,दर्जन भर पुस्तकों का संपादन कर चुके है एवं और विगत 13 वर्षो से वे टीकमगढ़ जिले से प्रकाशित होने वाली एकमात्र साहित्यिक पत्रिका ‘आकांक्षा’ पत्रिका का संपादन करते आ रहे है।
---
-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
 जिला अध्यक्ष-म.प्र.लेखक संघ
 टीकमगढ़ मोबाइल-9893520965




राना लिधौरी ‘मंचीय हास्य-व्यंग्य’ कवि सम्मान से सम्मानित-


राना लिधौरी ‘मंचीय हास्य-व्यंग्य’ कवि सम्मान से सम्मानित-

टीकमगढ़// भोपाल के हिन्दी भवन में  रविवार 24 दिसम्बर 2017 आयोजित म.प्र. लेखक संघ के प्रादेशिक सम्मान समारोह में सुप्रसिद्ध कवि राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ को अमित-रमेश शर्मा स्मृति सम्मान 2017 से सम्मानित किया गया।
 यह सम्मान म.प्र. के ऐसे साहित्यकार को प्रदान किया जाता है जिसने हास्य-व्यंग्य के माध्यम से मध्य प्रदेश में में अपनी विशिष्ट पहचान बनायी है।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि पद्मश्री श्री रमेशचन्द्र शाह जी एवं डंाॅ. संतोष चैबे जी कुलाधिपति आइसेक्ट विश्वविद्यालय रहे एवं अध्यक्षता वरिष्ट साहित्यकार श्री बटुक चतुर्वेदी जी की तथा कार्यक्रम का संचालन कैलाश जयासवाल जी ने किया।
      उल्लेखनीय है कि राना लिधौरी ने अब तक लगभग 600 कविसम्मेलन व गोष्ठियाँ में भागीदारी की है एवं अपने संयोजन मे अब तक 230 कवि गोष्ठी व कवि सम्मेलन आयोजिक करा चुके है।
 उनके 5 संग्रह छप चुके है एवं दर्जन भर का संपादन कर चुके हैं । वे वर्तमान में वगित 13 वर्षो से ‘‘आकांक्षा’’ पत्रिका का सफल संपादन करते आ रहे है।rajeev namdeo rana lidhori
इस उपलब्धि पर नगर के साहित्यकारों, शुभचिंतकों, ने राना लिधौरी को बधाईयाँ व शुभकामनाएँ दी है।


-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
जिला अध्यक्ष-म.प्र.लेखक संघ
 टीकमगढ़ मोबाइल-9893520965