शुक्रवार, 31 अक्तूबर 2014

राजीव नामदेव 'राना लिधौरी की क्षणिकाएँ

rajeev namdeoआगम सोची पत्रिका (रीवा) अंक—अगस्त72014 में
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी' की क्षणिकाएँ

सोमवार, 27 अक्तूबर 2014

mpls gosthi 189-date-26-10-2014 -rajeev namdeo



iath;u Øaekd&1995 fnukad 8-12-70
   
e/;çns'k ys[kd la?k ftyk bdkbZ Vhdex<+ ¼e-ç-½
dk;kZy;&22@547 ubZ ppZ ds ihNs]f'kouxj dkyksuh]dq¡ojiqjk jksM+]Vhdex<+]eksckby&9893520965
v/;{k&jktho ukenso ^jkuk fy/kkSjh*¼eksck-9893520965½     
  lfpo&jkexksiky jSdokj ¼eksck-8085153778½


¼gkth t+Q+jmYyk [kka ^t+Q+j* ds 
x+++t+y laxzg ^bT+gkj&,&dY+c*dk gqvk foekspu½
         
  Vhdex<+@@uxj dh [;kfrizkIr lqçfl) lkfgfR;d laLFkk e-ç-ys[kd dh 189oha xks"Bh ^dFkk o dgkuh ij dsfUnzr ftyk iqLrdky; esa vk;ksftr dh x;h ftlds eq[; vfrfFk chuk ls i/kkjs x+t+ydkj jghe gks”kaxkoknh*jgs o v/;{krk dgkuhdkjk&MkW :[klkuk fl)hdh us dh rFkk fof'k"V vfrfFk lkfgR;dkj ohjsUnz cgknqj [kjs jgsA
xks’Bh ds izFke pj.k esa e-iz-ys[kd la?k ds lja{kd gkth tQ+j mYyk [kka^t+Q+j* ds rhljs x+t+y laxzg ^bT+gkj&,&dY+c*dk foekspu fd;k x;kA rr~Ik”pkr~ ^bT+gkj&,&dY+c*dh leh{kk lkfgR;dkj jktho ukenso ^jkuk fy/kkSjh* us i<+h rFkk t+Q+j lkgc dh ,d x+t+y dks Hkkufalag JhokLor us lqe/kqj daB ls xk;kA
 f}rh; pj.k esa dFkk o dgkuh xks’Bh gqbZ ftlesa ljLorh oanuk eueksgu ikaMs us i<+h] cYnsox<+ ls i/kkjs dfo ;nqdqy uanu [kjs us^nks iSls dk vkneh*]iwjupUnz xqIrk us cqUnsyh dFkk ^urhtk*] Mk-W :[klkuk fl)hdh us ^vkLFkk*]jktho ukenso ^jkuk fy/kkSjh* us ^vaxzsth isij*]MkW-txnh”k jkor us *ek¡ dh eerk*]xqykc flag HkkÅ us ^[kk&[kk [kbZ;k*]fl;kjke vfgjokj us ^yhd ls gVdj*]fot; esgjk us ^pkSiky*] nhun;ky frokjh us ^u”kk ulsuh uk”k dh*]Ogh-Ogh-cxsfj;k us ^iqjLdkj*]xhfrdk osfndk us ^t:jh ckr*]lhrkjke jk; us ^ut+jckx dks ut+j yxs u*]MkW- vk”kk frokjh us ^Hkwjh*]ijes”ojhnkl frokjh us ^dSlh lth lokjh*] dgkfu;k¡ i<+hA
 buds vykok gkth t+Q+j mYyk [kka tQ+j]ohjsUnz cgknqj [kjs] jkexksiky jSdokj]vferkHk xksLokeh]lat; [kjs] ,u-Mh-lksuh] ohjsUnz palkSfj;k] gjsUnziky flag]jghe gks”kaxkoknh] eueksgu ikaMs] ch-,y tSu]ykyth lgk; JhokLro] v”kjQmYyk [kka us Hkh viuh jpuk,¡ i<haA xks"Bh lapkyu mek“kadj feJ us fd;k ,oa lHkh dk vkHkkj çn'kZu ftyk/;{k jktho ukenso ^jkuk fy/kksSjh* us fd;kA                                                                        
                                               jiV& jktho ukenso ^jkuk fy/kkSjh*
                     ]                          v/;{k e-ç-ys[kd la?k]Vhdex<+]
                                        eksckby&9893520965]          




         

श्री वीरेन्द्र केशव परिषद टीकमगढ़ का साहित्य का 85 वां वार्षिक उत्सव Report by-Rana lidhori


   
वीरेन्द्र बहादुर खरे की पुस्तक ‘देह धरा का दर्द’ का विमोचन हुआ-

(श्री वीरेन्द्र केशव परिषद टीकमगढ़ का साहित्य का 85 वां वार्षिक उत्सव )


  टीकमगढ़//‘‘मंच पर ज्ञान बैठा है, सामने संस्कार बैठा है और ये छोटे-छोटे बच्चे जो फोटो खींच रहे है वे इन दोनों को ग्रहण करने में लगे हैं अपने कैमरों में कैद करने में लगे है ’’ ये उदगार -खंडवा से पधारे विद्वान साहित्य मनीषी  मुख्य अतिथि डाॅ. श्रीराम परिहार ने अपने वक्तव्य में दिये है। नगर की सबसे पुरानी साहित्यिक संस्था श्री वीरेन्द्र केशव साहित्य परिषद एवं म.प्र.हिन्दी साहित्य सम्मेलन भोपाल शाखा टीकमगढ़ के संयुक्त तत्वाधान में वरिष्ठ साहित्यकार वीरेन्द्र वहादुर खरे के दोहा संग्रह ‘देह धरा का दर्द’ का विमोचन सीनियर बेसिक हाई स्कूल टीकमगढ़ में किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ. श्याम सुंदर दुबे उज्जैन एवं मुख्य अतिथि डाॅ. श्रीराम परिहार खंडवा तथा विशिष्ट अतिथि आचार्य पं. दुर्गाचरण शुक्ल ने की। सर्वप्रथम माँ सरस्वती की वंदना मनमोहन पांडे ने की तथा स्वागत भाषण रामस्वरूप दीक्षित द्वारा दिया गया संस्था का प्रगति प्रतिवेदन एन डी सोनी ने पढ़ा। विमोचित कृति की समीक्षा डाॅ. डी.पी.खरे ने पढ़ी। मीडिया प्रभारी राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने बताया कि इस अवसर पर श्री वीरेन्द्र केशव साहित्य परिषद द्वारा उज्जैन से पधारे विद्वान साहित्यकार डाॅ.श्याम सुंदर दुवे को ‘बनारसीदास चतुर्वेदी सम्मान’ एवं  वीरेन्द्र बहादुर खरे को ‘पं.कृष्ण किशोर द्विवेदी सम्मान’ से सम्मानित किया गया जबकि म.प्र.हिन्दी साहित्य सम्मेलन भोपाल शाखा टीकमगढ द्वारा खंडवा के डाॅ. श्रीराम परिहार को ‘महाकवि केशव सम्मान’ व पं.दुर्गाचरण शुक्ल को ‘महर्षि वेद व्यास सम्मान’ से विभूषित किया गया।
 इस अवसर पर आलोक खरे, त्रिलोक खरे, राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’,संतोष पटेरिया (महोबा),रामगोपाल रैकवार, महेन्द्र उपाध्याय,हाजी ज़फ़र उल्ला खां जफ़र, रामगोपाल रैकवार,अमिताभ गोस्वामी, वीरेन्द्र चंसौरिया, हरेन्द्रपाल सिंह,विजय कुमार मेहरा,परमेश्वरीदास तिवारी, कोैशल किशोर भट्ट,शीलचन्द्र  जैन,हरीश अवस्थी,पूरनचन्द्र गुप्ता,बी.एल जैन, गुलाब सिंह भाऊ, शांति कुमार जैन, सियाराम अहिरवार, आर.एस.शर्मा,संजय खरे, राजेन्द्र विदुआ,डाॅ.जे.पी.रावत,लालजी सहाय श्रीवास्तव, आदि उपस्थित रहें। गोष्ठी संचालन डाॅ.रूखसाना सिद्धीकी ने किया एवं सभी का आभार प्रदर्शन अजीत श्रीवास्वत ने किया।                                            
                                    रपट- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
                ,                        अध्यक्ष म.प्र.लेखक संघ,टीकमगढ़,
                                          मोबाइल-9893520965,  
             

शनिवार, 18 अक्तूबर 2014

राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ टीकमगढ़ की प्रकाशित सपरिचय दो हास्य व्यंग्य रचनाएँ

‘शब्द प्रवाह’ पत्रिका (उज्जैन) 
संपादक-संदीप सृजन के अंक-‘वार्षिक काव्य विशेषांक’ जनवरी-जून-2014 में पेज-172 पर
 राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ टीकमगढ़ की प्रकाशित सपरिचय दो हास्य व्यंग्य रचनाएँ
राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी