सोमवार, 7 मार्च 2016

मांझ के जैन मंदिर में हुआ ‘‘कवि सम्मेलन 42 कवियांे 6-3-2016 tikamgarh mp

   मांझ के जैन मंदिर में हुआ ‘‘कवि सम्मेलन 42 कवियांे
  ने की पढ़ी कविता, खूब हुई काव्यरस वर्षा ’’-
(रतलाम, दुर्ग,बल्देवगढ़,लखौरा,कुण्डेश्वर, तखा मंजरा से आये कवि)
(म.प्र.लेखक संघ की 208वीं कवि गोष्ठी)

टीकमगढ़// सकल दिगंबर जैन समाज एवं सूर्य सागर हाईस्कूल के सौजन्य से ‘म.प्र.लेखक संघ’,एवं हिन्दी सेवा समिति, अ.भा.बुन्देलखण्ड साहित्य एवं संस्कृति परिषद, श्री वीरेन्द्र केशव साहित्य परिषद, तुलसी साहिय अकादमी, अ.भा. साहित्य परिषद,बज़्में अदब व राष्ट्रीय कवि संगम आदि सहित नगर की समस्त साहित्यिक संस्थाओं के संयुक्त तत्वधान में परमपूज्य 108आचार्य श्री ज्ञान सागर जी महाराज के संरक्षण में ‘जिला स्तरीय साहित्य व कवि सम्मेलन  मांझ के जैन मंदिर में आयोजित किया गया जिसमें जिसके मुख्य अतिथि वरिष्ठ पत्रकार राजेन्द्र अध्वर्य रहे व अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार पं. हरिविष्णु जी अवस्थी’ ने की जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप में डाॅ.दुर्गेश दीक्षित़ से रहे।
सर्वप्रथम कवयित्री सुश्री सीमा श्रीवास्तव ने रचना पढ़ी-
 मेहरवान साहिबान कदरदान, इस ओर ध्यान दीजिए,
ये है दुल्हों की होल सेल की दुकान,फिक्स रेट नो डिस्काउंट।
म.प्र.लेखक संघ के जिलाध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने ग़ज़ल सुनायी-
अदब करे न बुजुर्गाे का न करे वो सलाम,
 ये कैसी मस्ती छायी है नौजवानों में।
मंदिरों मस्जि़्द में उनको जाने का वक्त नहीं,
 उनकी हर शाम गुज़र जाती है मयखाने।
रतलाम से पधारे युवा गीतकार संजय खरे ने गीत पढ़ा-
जन्म मोहे न दइयो, कोख में बैठी बोले ,माँ पीड़ा मत सहयो।
ग्राम बल्देवगढ़ से पधारे कवि कोमलचन्द्र बजाज ने पढ़ा-
 मंदिर में पूजा करें,लगाते भगवान को भोग,
दुकान पर जाकर,गरीबों को लूटते है लोग।।
 कुण्डेश्वर से पधारे बुन्देली कवि डाॅ. दुर्गेश दीक्षित ने पढ़ा-
पहले हृदय का निर्माण करो फिर राष्ट्र का निर्माण करो।।
रामगोपाल रैकवार ने सुनाया -
दूसरों को जीत लेना आसान है कँवल,
जो स्वयं को जीतें उन्हें महावीर कहते है।।
परमेश्वरीदास तिवारी ने कविता पढ़ी-   
पन्नी बनी अंग का जीवन,जीवन बिकता पन्नी में।
पन्नी में बिकता है बचपन,यौवन बिकता पन्नी में।।
सियाराम अहिरवार ने कविता पढ़ी-
आने दो बेटी को जग में,क्यों गर्भापात कराते हो,
  तुम कैसे सम्मी पापा हो,जो हत्या भ्रूण कराते हो।
हाजी ज़फ़रउल्ला खां ‘ज़फ़र’ ने ग़ज़ल पढ़ी-
 कान मशीने मँुह बत्तीसी आँख पे चश्मा डाले है।
म्र रसीदा मे देखो तो खुद को खूब संभाले है।।
अनवर खान ‘साहिल’ ने ग़ज़ल पढ़ी-   
जेवर अच्छा लगता है न गौहर अच्छा लगता है।
औरत की जो कद्र करे वो शौहर अच्छा लगता है।
दीन दयाल तिवारी  ने सुनाया-
हिंसा छोड़ दे मानव,अहिंसा मंत्र जप लेना।
दया का भाव निजजन में सजाकरके ही रख लेना।
सीताराम राय ने पढ़ा-सत्य अंिहंसा परमो धर्म की नै ना कौनऊ ज्ञानी।
 अमर रहे इतिहास जगत में महावीर की वानी।।
पूरन चन्द्र गुप्ता ने पढ़ा-होते सम्मानीय हैं वरिष्ट नागरिक जोय,
 आयु अनुभव में बड़े पूजनीय वे जोय।
योगेन्द्र तिवारी ‘योगी’ ने सुनाया-
गरीबी के करीबी से मैंने हर दौर में देखे हंै।
 अमीरों के भी जीने के,तरीके और देखे है।।
शिवचरण उटमालिया ने ग़ज़ल पढ़ी-
माँ का दिल चीर कर जरा देखों, जब देगा दुआ देगा।।
 इनके अलावा सुशील यादव (दुर्ग),पं.हरिविष्णु अवस्थी,महेन्द्र पोतदार,लालजी सहाय श्रीवास्तव, अजीत श्रीवास्तव, हरेन्द्र पाल सिंह, शांति कुमार जैन बी.एल. जैन,भारत विजय बगेरिया,कृष्ण कुमार रावत,राजेश जैन,विजय मेहरा आदि ने भी रचनाएँ सुनायी। गोष्ठी संचालन उमाशंकर मिश्र ने किया ने किया एवं सभी का आभार प्रदर्शन संस्था महेन्द्र पोतदार ने किया।

रपट- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’,
     अध्यक्ष म.प्र.लेखक संघ,टीकमगढ़,    मोबाइल-9893520965,   




rajeev namdeo rana lidhori

बुधवार, 2 मार्च 2016

somya samvad-bhopal 26 feb 2016

बुन्देली व्यग्ंय - ‘‘लुकलुक की बीमारी’’

    बुन्देली व्यग्ंय - ‘‘लुकलुक की बीमारी’’

bundeli viyanag

                हमाये इतै कछु दिनन से नये-नये कवि पैदा भये पैला से वे कविताई नई करतते पर जब सै सरकार ने उनै रिडायर्ड करदऔ तबसै वे सठिया गये और ‘सरतारौे बानिया का करे’ की कानात को अपनारये हते, सौ कोनऊ ने उनसे कै दई कि कवि बन जाओ सौ उनने कई कि कवि तो जन्मजात होत है ऐसे कैसे बन जात है? उनने कई आजकाल तौ सबई जने कवि बन जात है। वे ठलुआ तो हो गये हते सो उन्ने कोशिस करी तो कछु इताई कि कछु उताई की जोर-तोर के चार छः कवितायें बना डारी और कवि बन गये बार सफेद हते, उन्ना सोई सफेद पैर लये तना सी दाढ़ी घर लई, लो बन गये कवि। अब उने झट्टई अपनौ नाव कवियन में करवै की लुकी लुकी भई, जा एक भौत बुरई नई बीमारी पर गयी जौ उनखौ पीछो अबे लौ नई छोर रई। अब शहर में कितऊ भी कोनऊ साहित्यिक पिरोगराम या कवि सम्मेलन हुये जै साहब उतै जरूर पौच जेहे। उन्हें पैचानवे में कोनऊ परेशानी नई होत है, काइसै कै जै उतई मंच कै ऐंगरें ही लुकलुकात फिरत है। कछु नई तो तनक -तनक देर में मंच पै पौच कै मइक ठीक करन लगत है ऐसे लगत जैसे जै पिछले जनम में माइक सुधारवे के स्पेशलिष्ट भये हुये।
                एक बैर का हा भओ कि शहर में एक बुन्देली पै कवि सम्मेलन हतौ अब ये लुक लुक साब तौ बुन्देली में तनकऊ नई लिख पातते, सौ उनकीे इतै कविता पढवै की दार नई गलने हती, पर का करै, मजबूरी हती सौ जै सबसे पैला की लाइन में जगां अगेज कै सबसे पैला कुर्सी पै धररये। अब साब कवि सम्मेलन चालू भओ, सो जो इनै लुकलुक की बीमारी हती ऊकौ कीरा गुलबुलान लगौ सो इनै कछु न सूजी, जै उतई से एक पैरे से पैराओ भओ गजरा ढूंढ लाये और मंच पै चढ कै ऊ समय जौन कवि पढ़ रओ हतो उखौ पैरा दओ, और तारी बजान लगे जैसे कछु जग्ग जीत लओ हो,सौ कछु लोगन ने उनके देखादेखी सोई तारी बजा दई। अब इनकी लुकलुकी तनक कम भई सो जै अपनी जागा पै आकै बैठ गयें। आदा घंटे बाद इनै फिरकै लुकलुकी उठी, सौ जै फिरकै कऊ से एक गजरा ढूंढ कै लाये और मंच पै जान लगे, सौ पछाई बैठे श्रोताओं में से कोनऊ ने जोर से कई -जौ कौ बब्बा अय। जौ भाई लुकलुकात फिररऔ, सौ बगल बारे ने कई सठिया गओ है दूसरे नै कई इतई कौ नओ-नओ कवि बनो है सौ आज ईखौ पढवे नई मिल रओ, सो फरफरात फिर रओ और  गजरा डार -डार कै अपनौ मन भर रओ, एई बहाने से मंच पे जावे की लुकलुकी शांत कररओ। एकाद बेर फोटो सोई खिंच जात सौ जै ऊखौं मडवा कै अपने इतै घरे टांग लेत है और कत फिरत है कि हमने ऊके संगे कविता पडी हती वे तो हमाये मित्र है। अब फोटो देखवे वारे कौ का पतौ कि जा फोटो कैसे ख्ंिाची हती। जो बब्बा हर कवि सम्मेलन में जोई नौटंकी करत है हम तौ कई बेर देख चुके है। सबरै सुनवे वारे इन्हैं चीनन लगे है लगत है तुम नये आये हो? एई से तुमै नई मालूम।
                इन साब की लुकलुक की बीमारी खौ देख के शहर भर के कवियन ने इनकौ नाव ‘लुकलुक’ कवि धर दओ। अब इन मैं एक विद्या तो जन्मजात हती सौ ऊकी दम पै और नैतन की चमचयाई करकै इतै उतै की बातें बानकै नेतन के हात पाव जोर कै कैसै भी पैसा ऐठ कै एकाध कवि गोष्ठी अपने घरे करा लई और उन्हीं नेतन खौ शाल श्रीफल सै सम्मान करदओ। शहर भर कै नेतन खौ सम्मान करकै जै अफरै नइयाँ सौ अब उनखै चमचन खौ सोई सम्मान करत जा रये। अब इतै जा सोसवे बारी बात है कि साहित्यिक गोष्ठी में नेतन कौ सम्मान करवै की का तुक है वे कुन अटल बिहारी है कि कवि  है। जे तो साहित्य कौ ‘हींग कौ घगा’ तो जानत नईया और सम्मानित हो रये,जै तो बोई बात हो गई कि मूरखन कै राज मैं
‘गधा पजीरी खा रये’, लेकिन का करै चमचयाई में जो सब तो करनै पडत है। अबे तक तो जा कानात सुनी ती कि ‘मुसीबत में गधे को बाप बनालओ जात है पर अब तो पैसन के लाने जी चाये खौ कछु भी बनालो।           
                अबे तक तो साहित्यकार इन सबसे दूर रततै। साहित्यकारन खौ जो सब नोनो नई लगत है,साहित्यकारन की तौ स्वाभिमान,इज्जत एवं प्रशंसा ही पूंजी रत है। साहित्यकार खौ मतलब होत है जो सबको हित करे वही साहित्यकार होत है जो नई कि केवल अपनौ हित साध लओ। नेतन की चमचयाई और लुकलुक करवों अपुन साहित्यकारन कौ नोनो लई लगत है पर का करै जमानौ सोई बदल रओ है। झट्टई परसिधी पावे खौ जो शोर्टकट रास्तो है। कछुन ने ईखौं अपना लओ है।
                अब लुकलुक साब खौ दो तीन साल कविताई करत भये हो गये सो उनने कवियन की कविता पढवे की नकल,मंच की अदाये सीख लई वे अब कवियन में गिने जाने लगे और स्वयं खौ शहर खौ सबसे बड़ो कवि मानन लगे। वे अपने लुकलुकावे को कोनउ मौका हात से नई जान देत है। शहर में जब कभउ कौनउ भी कवि सम्मेलन होत है और ऊ में कोनउ नओ कवि शहर में आवो तो वे एक डायरी लेके ऊखै इतै पौंच कै ऊखों नाव पतौ और मोबाइल नंबर जरूर लिख लेत है और उये जब तक पेरत रत है जब तक कि वौ इने अपने इते एक वेर नई बुला लेत है। दौबारा उतै जावे की नौबत नई आत है। वे जान जात है कि जै कितै बडे वारे है।
                वे अब जब भी मंच पै जात है तो एक दो नई से उनकी लुकलुकी नई जात कम से े कम छःसात कविताये तो फटकार आत है संचालक महोदय इनसे बैठवै की बिनती करत-करत थक कै गम्म खाकै बैेठ जात। यदि जै कभऊ कोनउ गोष्ठी कौ सचंालन कर रये तौ फिर उनसे भगवान भी नई बचा सकत है लुकलुक साब कि कछु कवितायें तो गोल्डन जुबली मना चुकी है फिर भी जै बडे शान से ऊ कविता खौ ऐसे सुनात जैसे पैली बेर सुना रये हो।
                उनकी देखादेखी कछु कवियन खौ सोई जा लुकलुक की बीमारी लगगई है। सौ भइया इनई जैसन लुकलुकन की लुकलुकी कम करवै के लाने जौ व्युंग्य लिखौ भओ है। अब का करे जैसै कंपूटर में बाइयरस आ जात है बैसे अब साहित्य में सोई बायरस आन लगे है। यदि इनकौ इलाज नई करो गओ तो जै साहित्य खौ हेंग करके सबरौ साहित्य खौ चाट जेहे। अपुन नै तो एंटीबाइरस अपने एगर धर लओ है ताकि इनके प्रभाव से बचत रये,लेकिन फिर भी कभऊ-कभऊ इनकी चपेट में सोई आ जात है। इनकी मीठी और चापलूसी की बातन में आ जात है। सो भइयाहरौ जा लुकलक की बीमारी भौत खतरनाक है ईसै अपने खौ बचावे राखने है।
                    अअअ
    राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
        संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
       अध्यक्ष-म.प्र लेखक संघ,टीकमगढ़
      शिवनगर कालौनी,टीकमगढ़ (म.प्र.)
       पिनः472001 मोबाइल-9893520965
   E Mail-   ranalidhori@gmail.com
Bolgg -rajeev namdev rana lidhori.blog spot.com
    Face Book-rajeev namdeo rana lidhori