रविवार, 1 अक्तूबर 2017

‘‘भक्ति सागर’’ का हुआ विमोचन
म.प्र. लेखक संघ का हुआ ‘कवि सम्मेलन’
(बल्देवगढ़,जतारा,नदनवारा,मडखेरा,सिमरा,लखौरा,पठा,कुण्ड़ेश्वर से आये कवि)

टीकमगढ़//नगर की सर्वाधिक सक्रिय साहित्यिक संस्था ‘म.प्र.लेखक संघ’ जिला इकाई टीकमगढ़ का 228वाँं कवि सम्मेलन ‘अंिहंसा एवं ‘वृद्ध जन’ पर केन्द्रित डे केयर राजमहल परिसर में आयोजित हुआ। जिसमें मुख्य अतिथि टीकमगढ़ कलेक्टर श्री अभिजीत अग्रवाल जी रहे एवं अध्यक्षता वरिष्ठ साहित्यकार प.हरिविष्णु अवस्थी ने की तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला पंचासयत अध्यक्ष श्री पर्वतलाल अहिरवार,पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष राकेश गिरि गोस्वामी,पं.हरिदास जी महाराज मंचासीन रहे। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कलेक्टर महोदय श्री अभिजीत अग्रवाल द्वारा ‘म.प्र.लेखक संघ’ द्वारा प्रकाशित कवि श्री सीताराम राय ‘सरल’ की पुस्तक ‘भक्ति सागर’ का विमोचन किया गया। तत्पश्चात म.प्र. लेखक संघ द्वारा ‘कवि सम्मेलन’हुआ जिसका शुभारंभ
वीरेन्द्र चंसौरिया ने सरस्वती वंदना करते हुए यह रचना पढ़ी-
चारों ओर अंधेरा है माया ने घेरा है।
 ज्ञान का दिया मन में जला दीजिए।।
बल्देवगढ़ से पधारे कवि यदुकल नंदन खरे ने सुनाया-
इस तरह स्थिति में अंहिसा का सहारा है।
लोगों के लिए यही सहारा है।।
नदनवारा से पधारे गीताकर शोभाराम दांगी‘इन्दु’ ने सुनाया-
बेई मिट्टी बेई खान हते भौतउ ज्वान।
रामकृष्ण गौतम गांधी की राखें रइयों आन।।
जतारा से पधारे युवा कवि महेन्द्र चैधरी ने सुनाया-
शीश काटकर तड़फाया जाता है वीर जवानों को।
आ जाती है नींदे कैसे सत्ता के प्रधानों को।।
बल्देवगढ़ से पधारे कवि कोमल चन्द्र बजाज ने पढ़ा-
बापू आये सूर्यबनकर धर प्रभात का रूप।
आजादी के जल उठे दीपक दिव्य स्वरूप।।
लखौरा से पधारे बुन्देली कवि गुलाब ंिसंह यादव ‘भाऊ’ने पढ़ा-
पाप की जड़ नाग फांस है मनुवा।
हिंसा छोड़ अपननो अंहिसा है अनुवा।।
जिलाध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने बुजुर्गो पर ग़ज़ल पढ़ी -
जिस घर में बुजुर्गो का सम्मान नहीं होता।
  उस घर में कभी ईश्वर मिहरवान नहीं होता।।
सीताराम राय ने सुनाया- अँगना में चाँद प्यारा त्रिशिला की गोद आया।
धरती मगन है सब ओर रंग छाया।।
सिमरा से पधारे कवि रविन्द्र यादव ने पढ़ा- माँ बहन कि लाज बनो मेरा सपना है।
  रोते हुए की मुस्कान बनों मेरा सपना है।।
मडखेरा से पधारे कवि जमुना नामदेव ने पढ़ा- रोम-रोम में गाय के बसे देव महादेव।
लक्ष्मी सदैव विष्णु वसे पूजा करो सदैव।।
परमेश्वरीदास तिवारी ने पढ़ा- गजब जमाना आया भैया बन जाये कुछ बात।
सियाराम अहिरवार ने पढ़ा- उखडन से उपजी नीरसता मन जीवन से ऊब गया,
नहीं रहा उद्देश्य दृढ़ तो मन जीवन से टूट गया।
आर.एस.शर्मा ने पढ़ा- धर्म और धंधे एक हो गये सचिन संचिदाननंद हो गये।।
पूरन चन्द्र गुप्ता ने पढ़ा- देखो तुम न इतै खों देखों तनक उतै खौ देखो।
इसके अलावा भाजपा जिला अध्यक्ष अभय प्रताप ंिसंह यादव, कपूर चन्द्र घुवारा,राजेन्द्र पस्तोर, भगवानदास वर्मा, डाॅ.दुर्गेश दीक्षित,टी.सी शर्मा, विजय मेहरा,रामगोपाल रैकवार,अजीत श्रीवास्तव,हाजी जफ़र उल्ला खां जफर,एन.डी.सोनी, दयाली विश्वकर्मा, रामेश्वर राय परदेशी, बाल मुकुन्द प्रजापति डे केयर, पूरनचन्द्र गुप्ता,दीनदयाल तिवारी, प्रभुदयाल गुप्ता साहित भारी संख्या में जन समूह आदि उपस्थित रहा। गोष्ठी का संचालन राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने किया तथा सभी आभार गीतकार सीताराम राय ‘सरल’ ने माना। ---

रिपोर्ट-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’,टीकमगढ़
अध्यक्ष- म.प्र.लेखक संघ टीकमगढ़
  मोबाइल-9893520965










शुक्रवार, 29 सितंबर 2017

गुरुवार, 21 सितंबर 2017

व्यंग्य कविता-‘‘चोटी कटवा’’

 व्यंग्य कविता-‘‘चोटी कटवा’’

हे चोटी कटवा, तुम यदि हो तो, अपनी शक्ति दिखाओ।
तुम हमारे सवालों का जल्दी से सही जबाब बताओ।।

दम है तो नेता की पत्नी की, चुटिया काटकर दिखाओ।
या फिर महिला पुलिस अधिकारी की चुटिया उड़ाओ।।

क्या तुम्हें गरीब महिला की चुटिया ही दिखती है।
क्यों तुमसे किसी हीरोइन की चुटिया नहीं कटती है।।

क्यों तुम्हें सिर्फ महिलाओं की चुटिया ही भाती है।
क्यों पिंड़त जी की चुटिया काटने में शर्म आती है।।

ब्यूटी पार्लर का धंधा ना अब तुम चौपट कराओ।
अंध विश्वास न जनता में अब तुम फैलाओ।।

गर काटते हो चुटिया तो अपने साथ ले जाओ।
‘राना’ तो है एक कवि,न उन्हें उल्लू बनाओ।।

 राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
  अध्यक्ष-म.प्र लेखक संघ  
शिवनगर कालौनी,टीकमगढ़ (म.प्र.)
  पिनः472001 मोबाइल-9893520965
E Mail- ranalidhori@gmail.com
          Blog- rajeevranalidhori.blogspot.com

मंगलवार, 5 सितंबर 2017

‘आकांक्षा पब्लिक स्कूल’ में मनाया गया शिक्षक दिवस

गुरू ही बच्चों को सही दिशा एवं मार्गदर्शन देता है.... 

     (‘आकांक्षा पब्लिक स्कूल’ में मनाया गया  शिक्षक दिवस)

 शिक्षकों को किया सम्मानित

टीकमगढ़//नगर की शैक्षणिक संस्था  ‘आकांक्षा पब्लिक स्कूल’ में शिक्षक दिवस मनाया गया। सर्वप्रथम संस्था के प्राचार्य श्री आर.एस.शर्मा द्वारा डॉ.सर्वपल्ली राधा कृष्णनन जी के चित्र पर माल्यार्पण किया गया किया था।
 शिक्षक रविन्द्र यादव ने कहा कि- शिक्षकों अपने कतव्यों का निर्वाहन पूरी ईमारदारी से करना चाहिए प्रत्येक शिक्षक को आदर्श होना चाहिए वही बच्चों में चरित्र का निर्माण करता है।
 शिक्षक विकास नापित ने कहा कि- ‘‘गुरू ही बच्चों को दिशा एवं सही मार्गदर्शन देता हैं। जिससे बच्चे बड़े होकर अपना नाम कमाते है।’’
आकांक्षा स्कूल संचालक राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने कहा कि-‘‘गुरू महान होता है, तभी तो उनका बड़ा नाम होता है। बच्चे रूपी नन्हें पौधे को अपनी मेहनत और लगन से बड़ा करके उन्हें फलदार बनाता है।
अंत में आकांक्षा स्कूल के संचालक राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी ने शिक्षकों उपहार भैंट कर उनका सम्मान किया उन्हें शिक्षक दिवस पर शुभकामनाएँ दी।
---
रिपोर्ट   -राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संचालक-आकांक्षा पब्लिक स्कूल टीकमगढ़
                    मोबाइल-9893520965









teachers day

सोमवार, 4 सितंबर 2017

 हे चोटी कटवा दम है तो किसी नेता की पत्नी की चुटिया काटकर दिखाओं-राना लिधौरी

म.प्र.लेखक संघ की 227वीं कवि गोष्ठी ‘हिन्दी’ पर हुई-

टीकमगढ़//‘ डे केयर’ राजमहल परिसर में म.प्र.लेखक संघ’ टीकमगढ़ की 227वीं गोष्ठी ‘राज भाषा हिन्दी’ पर केन्द्रित रही, जिसमेें मुख्य अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार आर.एस. शर्मा रहे व अध्यक्षता वरिष्ठ बाल साहित्यकार भारत विजय बगेरिया ने की, जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप शासकीय जिला पुस्तकालय के लइब्रेरियन विजय कुमार मेहरा’ रहेे।
दीनदयाल तिवारी ‘बेताल’ ने पढ़ा-हिन्दी हर मानव की बानी सबकी जानी मानी,
मातृभाषा है जा सबकी, रसिक रसीली रानी।।
परमेश्वरीदास तिवारी ने सुनाया-गजब जमाना आ गया, जेल में बाबा आ गया।।
म.प्र.लेखक संघ के अध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने ‘चोटी कटवा’ पर व्यंग्य सुनाकर सबको खूब हँसाया-

हे चोटी कटवा तुम अपनी उपस्थिति दिखाओ।
दम है तो किसी नेता की पत्नी की चुटिया काटकर दिखाओं।।
ग्राम पठा से पधारे सीताराम राय’ नेे कवि गोष्ठी का आगाज किया-
 हिन्दी तो लाडली बेटी,भारत के भाल की बिन्दी।
वतन की आन वान शान और सम्मान है हिन्दी।।
अनवर खान ‘साहिल’ ने ग़ज़ल पढ़ी-हाँ यकीनन है माँ मिरी हिन्दी। ऐ जो उर्दू है मेरी खाला है।।
युवा कवि रविन्द्र यादव ने सुनाया- सुनलो मेरी वानी, रे मेघा, वर्षा दइयो पानी।।
भारत विजय बगेरिया ने कविता सुनायी- मेरी हिन्दी महान, मेरी हिन्दी महान।।
ग्राम लखोरा से पधारे गुलाब सिंह यादव ‘भाऊ’ नेे सुनाया-
 राष्ट्रभाषा हिन्दी को कर दो ये हिन्दुस्तानी नारा है।
हिन्दीभाषा हिन्दुस्तान की गंगा कैसी धरा है।।
आर. एस. शर्मा, ने पढा- अंग्रेजों की गुलामी से आजादी के बाद,अब प्रश्न अंग्रेजी से आजादी का है।
डी.पी. शुक्ला ‘सरस’ ने कविता पढ़ी- बुन्देलखण्ड में हिन्दी की है
.कृृष्ण किशोर रावत ‘किस्सू’ ने कविता पढ़ी-प्रेयसी का वर्णन अभी मुख पर श्रृंगार आने को है।
बी.एल. जैन ने कविता पढ़ी-जय हिन्दी, जय हिन्दुस्तान।
पूरनचन्द्र गुप्ता, ने पढ़ा- हिंदी की ंिबंदी से निकला, जनमन का ये मान है।
भारत तो देष हमारा हिन्दी हिन्दुस्तान है।।
प्रभुदयाल गुप्ता ने कविता सुनायी- ताला बोले ताली से, ढूँढों मेरी चाबी को,
जो चाबी-चाबी करता है,प्रभु उसको दे दो अक्ल की चाबी।।
अबध विहारी श्रीवास्तव ने कविता पढ़ी-हिन्दी का सम्मान करो, हिंदी अपनी माँ है।
लइब्रेरियन विजय कुमार मेहरा ने कहा कि-‘हिन्दी को बढ़ावा देने के लिए प्रत्येक प्रांत में प्राथमिक स्तर पर हिन्दी अनिवार्य होना चाहिए इसके लिए नीति निर्माता को ध्यान देना चाहिए।’
 इनके अलावा डी.पी. शुक्ला ‘सरस’, बालमुकुन्द प्रजापति डे केयर, रामेश्वर राय परेदेशी, ,प्रमोद गुप्ता, धर्मदास साहू, विन्द्रवन नामदेव, कौशल किशोर चतुर्वेदी, आदि ने अपने विचार रखे। संचालन गुलाब सिंह यादव ‘भाऊ ने किया एवं सभी का आभार प्रदर्शन अध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने किया।

रपट- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
   अध्यक्ष म.प्र.लेखक संघ,टीकमगढ़,               मोबाइल-9893520965,

शुक्रवार, 1 सितंबर 2017

राना लिधौरी के 57 देषों के हुए ‘ब्लाग’ पाठक-

                                       राना लिधौरी के 57 देषों के हुए ‘ब्लाग’ पाठक-

टीकमगढ़/ख्यातिप्राप्त सााहित्यकार एवं म.प्र.लेखक संघ के जिलाध्यक्ष राजीव नामदेव राना लिधौरी के ब्लाग  Blog - rajeev rana lidhori.blogspot.com को इस माह ‘इक्वाडोर’ 56 वाँ देश  व चेकिया देश  के एक पाठक के जुडने के साथ ही उनके ब्लाग पढ़ने वाले देशों की संख्या 57 हो गयी है। ब्लाग राजीव नामदेव राना लिधौरी को भारत के साथ-साथ 57 देशों के पाठकों ने पढा हैं। राना लिधौरी के ब्लाग की 268 पोष्ट को अब तक प्रमुख रूप से भारत के 4084,संयुक्त राज्य के 1083, रूस के 478, फ्रांस के 256, पुर्तगाल के 136, पोलेंड़ के 85, जर्मनी के 82, यूक्रेन 73, वेनेजुएला के 47, संयुक्त राज्य अमीरात के 37 ,स्पेन 26, मलेशिया के 20, तुर्की के 18, द.कोरिया के 11, मेक्सको के 7, इंडोनेशिया के 5, ब्राजील के 4, ब्रिटेन के 3, यूनाइडेड किंगटन के 3,केन्या केन्या के 3, थाईलेंड के 3, रोमानिया के 2, आस्टेलिया के 2, सिंगापुर के 2, कांगो किरांग के 1, फिलीपींस, श्रीलंका, स्वीडन, साउदी अरब, बोलीविया, कजाकिस्तान, वियतनाम, लाइवेरिया, कतर,स्विडजरलैंड, कनाडा, मंगोलिया, मारीशस, चीन, यमन, चैकगण राज्य, नेपाल, हागकांग, इटली, नीदरलैंड, नार्वे, गिनी, माल्टा अजराइल, कोलंबिया,जापान,इक्वाडोर, एवं चेकिया आदि देशों के एक-एक पाठकों सहित कुल 6768 पाठकों ने राना लिधौरी का ब्लाग अब तक पढा है। और पाठकों की संख्या में निरंतर वृद्धि हो रही है उन्होंने अपने ब्लाग में 268 पोष्ट डाली है जिनमें उनकी हिन्दी में लिखी कविताएँ, व्यंग्य, आलेख आदि रचनाएँ है।
गौरतबल हो कि राना लिधौरी की 4 पुस्तकें छप चुकी है एवं साहित्यिक पत्रिका ‘आंकाक्षा’ का संपादन वे विगत 12 वर्षो सन् 2006 से करते आ रहे हैं। 11 पुस्तकों का संपादन कर चुके है। इंटरनेट पर उनके 4 ब्लाग है। फेसबुक पर लगभग 4500 मित्र है।फ ेसबुक पर उनका एक अलग से पेज भी है। आप वर्तमान में विगत 16 वर्षो से लगातार म.प्र. लेखक संघ जिला इकई टीकमगढ़ के अध्यक्ष पद को सुशोभित कर रहे है। आपके कुशल संचालन में म.प्र.लेखक संघ टीकमगढ़ की अब तक 226 गोष्ठियाँ सफलतापूर्वक आयोजित हो चुकी है। वर्तमान में आप ‘आकांक्षा’ पब्लिक स्कूल (अंग्रेजी माध्यम) शिवनगर कालोनी, टीकमगढ़ के डायरेक्टर है।
 राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
    संपादक ‘आकांक्षा’ पत्रिका
  अध्यक्ष-म.प्र लेखक संघ,टीकमगढ़
     शिवनगर कालौनी,टीकमगढ़ (म.प्र.)
 पिनः472001 मोबाइल-9893520965
        E Mail-   ranalidhori@gmail.com
      Blog - rajeev rana lidhori.blogspot.com






















































मंगलवार, 29 अगस्त 2017

आकांक्षा पब्लिक स्कूल के प्राचार्य ने बच्चों को फल एवं लेखन सामग्री बाँटी

प्राचार्य आर.एस.शर्मा ने बच्चों के साथ मनाया 75वाँ जन्मदिन
(‘आकांक्षा पब्लिक स्कूल’ के प्राचार्य ने बच्चों को फल एवं लेखन सामग्री बाँटी)

टीकमगढ़//नगर की शैक्षणिक संस्था ‘आकांक्षा पब्लिक स्कूल’ के प्राचार्य श्री आर.एस. शर्मा ने अपना 75वाँ जन्मदिन संस्था के बच्चों को फल,टॉफी, एवं लेखन सामग्री बाँटकर मनाया।
इस अवसर पर आकांक्षा पब्लिक स्कूल के डायरेक्टर एवं म.प्र. लेखक संघ के जिलाध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने श्री आर.एस. शर्मा को उनके 75वें जन्म दिवस पर हार्दिक बधाई देते हुए उन्हें शाल एवं श्रीफल से सम्मान किया तथा उनके शतायु होने की मंगलकामना की।
 इस अवसर पर श्री शर्मा को बधाई देने वालों में राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी, विकास नापित, रविन्द्र यादव, सी.एल.नामदेव, देव कुशवाहा ,शिव कुमारी, रजनी, विनीता, आकांक्षा आदि प्रमुख थे।
---
रिपोर्ट   -राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
संचालक-आकांक्षा पब्लिक स्कूल टीकमगढ़
              मोबाइल-9893520965











rajeev namdeo rana lidhori

गुरुवार, 27 जुलाई 2017

‘‘राना लिधौरी प्रादेशिक सलाहकार समिति में शामिल’’


‘‘राना लिधौरी प्रादेशिक सलाहकार समिति में शामिल’’
टीकमगढ़// म.प्र. लेखक संघ के प्रादेशिक अध्यक्ष का चुनाव विगत दिन हुआ जिसमें दूसरी वार डाॅ. राधा वल्लभ आचार्य जी को निविरोध अध्यक्ष चुना गया। उन्होंने अपनी नयी कार्यकारिणी बनायी है, जो की आगामी तीन साल तक प्रभावी रहेगी।
 जिसमें संरक्षक श्री बटुक चतर्वेदी जी भोपाल को बनाया गया है तथा एक पाँच सदस्यी परामर्शदाता समिति बनायी जिसमें डाॅ. हरीश प्रधान उज्जैन, श्री राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ टीकमगढ़, श्री मनोज जैन मधुर भोपाल,श्री अनिरूद्ध सिंह सेंगर गुना को मनोनीत किया हैं,
 प्रादेशिक उपाध्यक्ष श्री प्रभुदयाल मिश्र, प्रादेशिक मंत्री श्री कैलाश जायसवाल, प्रादेशिक कोषाध्यक्ष श्री सुनील चतुर्वेदी, प्रादेशिक संयुक्त मंत्री डाॅ. प्रीति प्रवीण को बनाया गया है जबकि कार्यकारिणी सदस्य के रूप में श्री युगेश श्र्मा भोपाल, श्री जी.पी. सोनी भोपाल, श्री पर्वत गिरी गोस्वामी बैरसिया, श्रीमती पूर्णिमा चतुर्वेदी भोपाल, श्री संतोष परिहार बुरहानपुर, श्री नलिन खोइवाल रतलाम एवं श्री हुकुम ंिसंह प्रेमी कालापीपल से चुने गये।
गौरतलब हो कि राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ पिछली कार्यकारिणी में कार्यकारिणी सदस्य के रूप में थे उन्हेें प्रामोट करके ‘परामर्शदाता समिति’ में रखा गया है। राना लिधौरी म.प्र.लेखक संघ की जिला इकाई टीकमगढ़ के अध्यक्ष है उन्हें प्रदेश की 52 इकईयों में सर्वश्रेष्ठ इकाई सम्मान भी मिल चुका है। उन्होंने कुशल नेतृत्व में अब तक 225 गोष्ठियाँ आयोजित कराकर इतिहास रचा है और लगातार अनवरत् गोष्ठियों का आयोजन प्रतिमाह प्रथम रविवार को नियमित कराते आ रहे।
 राना लिधौरी की अक तक चार पुस्तकंे छप चुकी है और विगत 12 वर्षो से वे ‘आकांक्षा’ पत्रिका का संपादन करते आ रहे है।
इस उपलब्धि पर नगर के साहित्यकारों, शुभचिंतकों, ने राना लिधौरी को बधाईयाँ व शुभकामनाएँ दी है।
-राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
जिला अध्यक्ष-म.प्र.लेखक संघ
    टीकमगढ़ मोबाइल-9893520965rajeev namdeo rana lidhori

रविवार, 2 जुलाई 2017

म.प्र.लेखक संघ की ‘पावस’ पर 225 गोष्ठी हुई-

म.प्र.लेखक संघ की ‘पावस’ पर गोष्ठी हुई-

                  कथा सम्राट ‘प्रेमचन्द्र’ को किया याद  

टीकमगढ़//‘ डे केयर’ राजमहल परिसर में म.प्र.लेखक संघ’ टीकमगढ़ की 225वीं गोष्ठी ‘पावस पर एवं कथा सम्राट मुंषी प्रेमचन्द्र’ पर केन्द्रित रही, जिसमे मुख्य अतिथि बल्देवगढ़ से पधारे  वरिष्ठ साहित्यकार कोमलचन्द्र बजाज रहे व अध्यक्षता पूर्व डी.ई.ओ. बी.एल जैन ने की, जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप कवि सियाराम अहिरवार रहेे। सरस्वती बंदना के पश्चात् साहित्यकारों ने मुंषी प्रेमचन्द्र’ पर अपने विचार रखे तत्पष्चात्
पूरनचन्द्र गुप्ता ‘पूरन’ ने कविता सुनायी- सोजे वतन के कारण इन्हें किया प्रतिबन्ध।
पूरन धनपत राय का,पड़ गया फिर नाम।।
लखौरा से पधारे गुलाब सिंह यादव ‘भाऊ’ नेे  बुन्देली कविता से पढ़ी-
  घटा घोर बदला  जा बदली छाई रसवारी भौरारे।
बरसे ओ पानी और होवे किसानी,भगवै गिरानी,सो सबका खुषी छाई।।
म.प्र. लेखक संघ के अध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी ने ‘ग़ज़ल’पढ़ी-
प्रदूषण का इतना असर हो गया है,सांस लेना भी अब तो ज़हर हो गया।।
ईमान दुनिया से क्या उठ गया,‘राना’, बदमाष कितना बषर हो गया।।
वीरेन्द्र चंसौरिया ने गीत सुनाया-
प्यासी धरती को पानी पिला दीजिए,दीन बन्धु दयालु दया कीजिए।
बल्देवगढ़ से पधारे  यदुकुल नदंन खरे ने पढ़ा- लोकतंत्र में गलियन-गलियन षब्दों की बौछार है
कोई विधवा लरत बचाने करती हा हा कार है।।
बुन्देली कवि राजेन्द्र विदुआ ने कविता सुनायी- जिनको पत्नि प्रिय है वे पत्नि के खास।
  पत्नि के ही ज्ञान से बन गये तुलसीदास।।
उमा षंकर मिश्रा ने पैरोडी सुनायी- तुम अगर वोट देने का वादा करो, मैं यूंही तुमको बुद्धू बनाता रहूँ।।
बल्देवगढ़ के कोमलचन्द्र बजाज पढ़ा- बादल गरजें, बिजली चमके,जल फहार देी मुस्कान।
प्यासी धरती धन्य हो गइ और पपीहा छेड़े तान।।
सियाराम अहिरवार ने पढा-जोष जुनून जज्बातों का,जिसके अंदर था सैलाब,
   उस कलम के हस्ताक्षर ने किये उजागर सुंदर भाव।।
दीनदयाल तिवारी ने कविता पढ़ी-तनक सौ बरस के रै जब पानी षंकित है सब प्रानी।
बादर छा रय आ रय,जा रय,चुप है बरसा रानी।।
आर.एस. शर्मा  ने पढ़ा- यक्ष प्रष्न पर्यावरण संरक्षण का, हरियाली और नदियों संरक्षण का है।
दयालीराम विष्वकर्मा ने सुनाया- मौं खों आन निवारौ,हे राम ई पथरा से तारो।।
रामगोपाल रैकवार ने व्यंग्य ‘प्रपंच परमेष्वर’ सुनाया एवं अजीत श्रीवास्वत ने बुन्देली कहानी- ‘झगड्म-पट्टम्’ सुनायी। इनके रामगोपाल रैकवार, परमेश्वरीदास तिवारी, बी.एल. जैन, भारत विजय बगेरिया, वेद पस्तोर, बालमुकुन्द प्रजापति, कौषल किषोर ,धर्मदास साहू,, रामचरण मिश्रा, लक्ष्मण दास आदि ने अपने विचार रखे।
संचालन उमा षंकर मिश्रा ने किया एवं
 सभी का आभार प्रदर्शन लेखक संघ के अध्यक्ष राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’ ने किया।
रपट- राजीव नामदेव ‘राना लिधौरी’
    अध्यक्ष म.प्र.लेखक संघ,टीकमगढ़,मोबाइल-9893520965,













rajeev namdeo rana lidhori